Best Pension Plans: रिटायरमेंट के लिए ये हैं तीन बेस्ट पेंशन विकल्प

यह रिटायरमेंट स्कीम एक प्रकार का फल है जिसमें आपकी सैलरी में एक निर्धारित खाता (Decided Amount) आपको रोजगार के कार्यालय के दौरान भविष्य की प्लानिंग को देखते हुए इन्वेस्ट किया जाता है. यह इन्वेस्टमेंट रिटायरमेंट के बाद सभी आवश्यकताओं को पूरा करने और सिक्योर फ्यूचर रखने में मदद करता है. यह स्कीम को भविष्य की प्लानिंग के रूप में भी जाना जा सकता है. 

Join

आपको इस आर्टिकल में पता चल ही रहा है कि इस योजना एक प्रकार की इन्वेस्टमेंट स्कीम है, जो आपको अपनी बचत का एक हिस्सा लंबी अवधि में जमा करने में मदद करती है ताकि आपके पास एक सुरक्षित वित्तीय भविष्य हो सके. इस योजना आपको रिटायरमेंट के बाद अनिश्चितताओं (Uncertainties) से निपटने में मदद करती है, और रेटायर्मेंट के बाद आय का एक स्थिर प्रवाह (Steady Flow) सुनिश्चित करती है। 

Best Pension Plans in India 2022 

20 से अधिक लाइफ इन्शुरन्स कंपनी हैं जो भारत में पेंशन योजनाओं के विभिन्न प्लान की पेशकश करती हैं। हर कंपनी के प्लान ग्राहकों की आवश्यकताओं के आधार पर भिन्न-भिन्न होते हैं। अपने विशिष्ट रेटायर्मेंट लक्ष्यों (Specific Retirement Goals) के आधार पर, ग्राहक अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने वाली सही स्कीम चुन सकते हैं। इंडिया की बेस्ट पेंशन स्कीम की सूची नीचे दी गई है:

  • एलआईसी न्यू जीवन निधि प्लान 

एलआईसी न्यू जीवन निधि प्लान के तहत आप बचत और सुरक्षा (Security) लाभ दोनों प्राप्त कर सकते हैं। इसमें भुगतान किया गया प्रीमियम आयकर (Income Tax) अधिनियम के तहत कर छूट के लिए पात्र होता है। इसमें इन्वेस्ट करने के लिए न्यूनतम आयु 20 वर्ष तथा अधिकतम आयु 58 वर्ष है। साथ ही आप एलआईसी न्यू जीवन निधि प्लान में न्यूनतम 5 वर्ष या अधिकतम 35 वर्षों के लिए अपनी राशि को इन्वेस्ट कर सकते हैं

  • एलआईसी जीवन अक्षय VI प्लान 

एलआईसी जीवन अक्षय VI प्लान ऐसा प्लान है, जो सिंगल प्रीमियम का भुगतान करने के तुरंत बाद पेंशन प्रदान करता है। इसमें इन्वेस्ट करने के लिए न्यूनतम आयु 30 वर्ष तथा अधिकतम आयु 85 वर्ष है। साथ ही एलआईसी जीवन अक्षय VI प्लान में खरीदार द्वारा चुने गए विकल्प के आधार पर पेंशन का भुगतान तुरंत किया जाता है।

  • एसबीआई लाइफ सरल पेंशन प्लान 

एसबीआई लाइफ सरल पेंशन प्लान पहले पांच पॉलिसी वर्षों के दौरान 2.50% और 2.75% के बीच गारंटीड बोनस प्रदान करता है। यह एसबीआई लाइफ़ – प्रेफ़र्ड टर्म राइडर खरीदकर हाई कवरेज प्राप्त करने का विकल्प भी प्रदान करता है। इसमें इन्वेस्ट करने के लिए न्यूनतम आयु 18 वर्ष तथा अधिकतम आयु 60 वर्ष है। साथ ही आप एसबीआई लाइफ सरल पेंशन प्लान में न्यूनतम 5 वर्ष या अधिकतम 40 वर्षों के लिए अपनी राशि को इन्वेस्ट कर सकते हैं।

भारत में पेंशन स्कीम के प्रकार 

इस योजना के तहत इन्वेस्टमेंट करने वालों की आवश्यकता को पूरा करने के लिए मार्केट में पेंशन योजनाओं की एक विस्तृत श्रृंखला (Wide Range) उपलब्ध है. इस योजना के संचालन और लाभ के आधार पर इन योजनाओं के कई वर्गीकरण है. इन पेंशन योजनाओं को आगे निम्न श्रेणियों में विभाजित किया जाता है. 

नेशनल पेंशन सिस्टम 

रेटायर्मेंट के बाद इन्वेस्टर्स को नियमित आय प्रदान करने के लिए भारत में एक लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट प्लान (Long Term Investment Plan) के रूप में शुरू की गई एक पेंशन स्कीम है। कोई भी व्यक्ति इस योजना में 60 वर्ष की आयु तक इन्वेस्टमेंट करना जारी रख सकता है, जिसके बाद न्यूनतम 40% धनराशि का उपयोग नियमित आय देने वाली एन्युटी स्कीम खरीदने के लिए किया जाना चाहिए। शेष 60% एकमुश्त राशि के रूप में निकली जा सकती है। 

पेंशन निधि 

PFRDA ने भारत में पेंशन फंड को संचालित करने के लिए छह कंपनियों को मान्यता दी है। पेंशन फंड के लिए आपको अपनी पसंद के फंड में एक निश्चित अवधि के लिए एक निश्चित राशि का इन्वेस्टमेंट करने की आवश्यकता होती है। फंड प्रदान करने वाली कंपनियां आम तौर पर विभिन्न इन्वेस्टर्स के अनुरूप कई अलग-अलग प्रकार के फंड ऑफर करते है। जैसे-जैसे फंड का मूल्य बढ़ता है, वैसे ही उनमें आपका इन्वेस्ट भी होता है। सेवानिवृत्ति (Retirement) के बाद, आप पूरी राशि निकाल सकते हैं।

लाइफ कवर के साथ पेंशन प्लान 

ये प्लान्स मुख्यतः लाइफ कवर और इन्वेस्टमेंट के दोहरे लाभ प्रदान करती हैं। आपके प्रीमियम का एक हिस्सा लाइफ कवर के लिए और शेष आपकी पसंद के फंड में इन्वेस्ट किया जाता है। मचुरिटी पर, आप एक बार में पूरी राशि निकाल सकते हैं या नियमित भुगतान प्राप्त कर सकते हैं। यदि पॉलिसी अवधि के दौरान आपकी मृत्यु हो जाती है, तो आपके नामांकित व्यक्ति (Nominee) को मृत्यु लाभ प्राप्त होगा।

पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड 

यह जॉब करने वाले व्यक्तियों को प्रदान किए जाने वाले पब्लिक प्रोविडेंट फंड के समान है, लेकिन अंतर केवल इतना है कि कोई भी Public Provident Fund अकाउंट खोल सकता है। पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड इन्वेस्टमेंट को 15 साल तक के लिए रखा जाता है, और रिटर्न की वर्तमान दर 7.1% है, जो हर साल सरकार द्वारा तय की जाती है। इसमें इन्वेस्ट करने का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि कोई भी व्यक्ति सेक्शन 80C के तहत इनकम टैक्स कटौती का दावा कर सकता है।

पेंशन प्लान लेने के लिए पात्रता 

यदि आप रेटायर्मेंट के बाद के लिए पेंशन प्लान में इन्वेस्ट करने की योजना बना रहे हैं, तो आपके पास तीन मुख्य पात्रता मानदंड (Eligibility Criteria) होना आवश्यक है।

  • प्रवेश आयु

आप एक निश्चित आयु के बाद ही पेंशन प्लान में इन्वेस्ट कर सकते हैं। विभिन्न बीमा योजनाओं (Insurance Plans) के लिए अलग-अलग आयु वर्ग हैं, लेकिन आम तौर पर, पेंशन योजना के लिए न्यूनतम प्रवेश आयु 18 वर्ष है। हालांकि, कुछ कंपनियां ऐसी भी हैं जिन्होंने इन प्लान्स के लिए एंट्री की उम्र 30 साल तय की है।

  • प्रीमियम

एक न्यूनतम प्रीमियम भुगतान है जो पॉलिसीधारक (Policy Holder) को पेंशन योजना लेने के लिए भुगतान करना पड़ता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पॉलिसीधारक द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम के अनुसार पेंशन प्राप्त होती है।

  • निहित आयु

यह वह उम्र है जिस पर पॉलिसीधारक को पेंशन मिलना शुरू हो जाती है। आम तौर पर, इसे 40 साल पर सेट किया जाता है। यह बीमा प्रदाता (Insurance Provider) द्वारा प्रदान की गई सीमा तक निर्धारित होती है।

निष्कर्ष 

जैसा कि दोस्तों हमने आपको इस योजना से जुड़ा सारी जानकारी हमने आपको इस आर्टिकल के जरिए आपको बताने की कोशिश की है. और यह भी बताया है कि इस योजना के तहत आप किस तरीके से लाभ उठा सकते हैं. अगर फिर भी इस लेख से जुड़ा कोई अन्य सवाल हो जिसे हम इस लेख के जरिए पूरा ना कर सके तो आप हमें कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं. आपके पूछे गए प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे.

Leave a Comment