Home Loan Insurance: मुश्किल समय में कैसे होम लोन बीमा मदद करता है?

आज हम बात करने वाले हैं होम लोन बीमा के बारे में तो जैसा कि हम सभी जानते हैं हमारे भारत देश में बहुत सारे बैंक है जोकि होम लोन प्रदान करती है, और ब्याज के साथ हर महीने ईएमआई (EMI) भी प्राप्त करती है. लेकिन अगर आप किसी महीने किसी कारण के चलते अगर अपना ईएमआई जमा करने में असमर्थ होते हैं तब यह होम लोन बीमा आपके लिए बहुत जरूरी बन जाता है. तो अगर आप होम लोन बीमा के बारे में संपूर्ण जानकारी पाना चाहते हैं तो अंत तक हमारे इस आर्टिकल में बने रहें, हम आपको इससे जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी प्रदान करने वाले हैं. 

होम लोन बीमा क्या है? 

होम लोन बीमा का मुख्य लाभ यह होता है कि अगर आपने होम लोन किसी बैंक के द्वारा लिया है, और अगर आपने अपना महीना का ईएमआई (EMI) भरने में असमर्थ हो जाते हैं तब यह बीमा कंपनी आप का छूटा हुआ ईएमआई का भुगतान करती है. अगर आपने होम लोन लिया उसके बाद अगर आपने बीमा कराया है और अगर आपकी किसी कारण मृत्यु हो जाती है या आपकी नौकरी छूट जाती है या अन्य प्रकार की परेशानियों का आपको सामना करना पड़ता है, जो कि आपके बीमा के प्रकार पर निर्भर करती है तो आपकी पूरी लोन की जिम्मेदारी बीमा कंपनी उठाती है.

अगर आप होम लोन लेने का योजना बना रहे हैं तो हम आपको बता दें टाटा (TATA) कैपिटल के तरफ से बहुत ही कम ब्याज दर में होम लोन दिया जा रहा है जिसका फायदा कई सारे लोग उठा रहे हैं.

भारत में गृह ऋण बीमा प्रदाता

भारत में लगभग सभी बैंकों की बीमा सहायक कंपनियां हैं जो होम लोन सुरक्षा योजनाएं बेचती हैं. जैसे कि भारतीय स्टेट बैंक जिसे हम एसबीआई (SBI) के नाम से जानते हैं उसके पास एसबीआई लाइफ उपलब्ध है. और आईसीआईसीआई (ICICI) बैंक उसके पास भी आईसीआईसीआई लोंबार्ड उपलब्ध है, और एक बैंक है एचडीएफसी (HDFC) जिसके पास एचडीएफसी लाइफ उपलब्ध है जोकि होम लोन सुरक्षा योजना बेचती है. हालांकि, ऐसे बैंक हैं जिनका होम लोन और होम लोन बीमा पैकेज बेचने के लिए जीवन बीमा प्रदाताओं और सामान्य बीमा कंपनियों के साथ कोई बीमा सहायक समझौता नहीं है. 

क्या होम लोन बीमा पॉलिसी खरीदना जरूरी है? 

होम लोन बीमा पॉलिसी खरीदना इसलिए जरूरी है क्योंकि अगर आप ने होम लोन प्राप्त किया और किसी कारण आप का ईएमआई भरना सक्षम नहीं हो पा रहा है तब बीमा कंपनी आपके लिए यह काम करके देती है, हालांकि लोन देने वाली कंपनी भी बीमा पॉलिसी कराने की सलाह देती है ताकि लोन देने वाले को यह सुनिश्चित होता है कि उसको समय से ईएमआई प्राप्त होगी. अपने स्वयं के लिए होम लोन बीमा पॉलिसी खरीदना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि क्या पता कब क्या हो जाए और आप ईएमआई भरने में असमर्थ हो तब यह कंपनी आपके लिए बहुत ही लाभदायक साबित हो सकता है. 

Home Loan Insurance की विशेषतायें व लाभ

  • जॉइंट लोन के तहत, सभी आवेदक सिंगल होम लोन बीमा (Home Loan Insurance) के अंतर्गत ही लाभ उठा सकते हैं. 
  • अगर आप होम लोन बीमा कराते हैं तो आपको आपदाओं से होने वाली मृत्यु या आत्महत्या को कवर नहीं किया जाता है. 
  • होम लोन बीमा के तहत कैंसर, हार्ट अटैक जैसी बीमारियों को भी कवर किया जाता है. 
  • जो व्यक्ति बीमा कराता है वह बीमा का अमाउंट ईएमआई करा सकते हैं. 
  • होम लोन उधारकर्ता या पॉलिसी धारक को एकमुश्त राशि का भुगतान किया जाता है. 

होम लोन बीमा प्रीमियम

जैसे की होम लोन बीमा प्रीमियम तीन चीजों पर निर्भर करता है, बीमा करता की आयु, बीमा करता के शारीरिक रिपोर्ट तथा लोना विधि. जैसे कि अगर बीमा जो व्यक्ति करवा रहा है उसकी आयु इत्यादि. होम लोन बीमा प्रीमियम प्रॉपर्टी/ घर को अन्य लोगों द्वारा जब्त होने से बचाने में भी मदद करता है। इस प्रकार, बीमा धारक के लिए कुछ महत्वपूर्ण उद्देश्यों के लिए इसको चुनना ज़रूरी हो जाता है. 

होम लोन इंश्योरेंस और होम इंश्योरेंस के बीच अंतर

आइए हम बात करते हैं होम लोन इंश्योरेंस और होम इंश्योरेंस के बीच की अंतर। भले ही सुनने में एक जैसे लगते हैं लेकिन इसका मतलब बहुत ही अलग है, जैसे कि होम लोन इंश्योरेंस यह होता है जब आप लोन लेते हैं घर बनाने के लिए और आप जब आपका घर किसी कारण नुकसान हो जाता है तब होम लोन इंश्योरेंस आपके मरम्मत की कॉस्ट को कवर करता है. उसे होम लोन इंश्योरेंस कवर करता है। जिस समय आप लोन लेते हैं उस समय से यह योजना बकाया लोन राशि को कवर करती है.

  • चोरी के कारण घर / प्रॉपर्टी को नुकसान
  • भूकंप, तूफान, बाढ़, आग आदि प्राकृतिक आपदाओं से नुकसान

एचडीएफसी (HDFC) बैंक के तरफ से होम लोन में ऑफर चल रहा है जिसके तहत लोगों को होम लोन पर कम ब्याज दर के अलावा और भी अन्य फायदे दिए जा रहे हैं.

Home Loan Insurance के प्रकार

कोई भी बैंक तीन प्रकार के होम लोन बीमा ऑफर करते हैं जिसमें लेवल प्लान, हाइब्रिड प्लान, और कवर योजना में कटौती करना शामिल है. इस आर्टिकल की मदद से हम इन तीनो लोन के बारे में डिटेल से चर्चा करते हैं तब तक आप हमारे इस आर्टिकल में बने रहे. 

लेवल कवर योजना: लोन अवधि के दौरान बीमाधारक के लिए कवरेज समान रहता है.

हाइब्रिड कवर योजना: कवरेज पहले वर्ष के दौरान समान रहती है लेकिन जैसे-जैसे लोन की अमाउंट कम होते जाती है धीरे-धीरे कवर भी कम होता जाता है.

कवर योजना में कटौती करना: लोन अवधि जितना भी होता है उसके कम होने पर कवरेज और बकाया धीरे-धीरे दोनों कम होते जाते हैं.

निष्कर्ष: 

होम लोन बीमा के बारे में हमने आर्टिकल में चर्चा किया, अगर आपने हमारा आर्टिकल शुरू से अंत तक अच्छे से पढ़ा है तो आपको होम लोन बीमा के बारे में संपूर्ण जानकारी मिल चुकी होगी। हमने हमारे आर्टिकल में स्टार्टिंग से यह बताया कि होम लोन बीमा होता क्या है कौन-कौन से प्रदाता है जो होम लोन बीमा प्रदान करते हैं.

इनके विशेषताएं क्या है, प्रीमियम क्या होती है, इत्यादि सभी प्रकार की जानकारी हमने एक ही आर्टिकल में दिए हैं. अगर आपने सीधा निष्कर्ष पढ़ना शुरू किया है तो आप कृपया करके इस आर्टिकल को शुरू से पढ़ने की कोशिश करें ताकि आपको इनसे जुड़ी संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो सकती है.

बहुत सारे रिक्वेस्ट हमें आ रहे थे इस टॉपिक को लेकर इसीलिए आज हमने होम लोन बीमा के बारे में आर्टिकल बना ही दिया ताकि आप लोगों को किसी प्रकार की कोई परेशानी का सामना ना करना पड़े। आपको पढ़ने के बाद किसी प्रकार की कोई परेशानी हो रही है तो आप नीचे कमेंट करके हमें बता सकते हैं धन्यवाद.

Leave a Comment