Janani Suraksha Yojana: प्रेग्नेंट महिलाओं को मिलेगी सरकार के तरफ से आर्थिक मदद

आज के समय में प्रेग्नेंट महिलाओं और उनके नवजात बच्चों के लिए सरकार कई तरह के नए कदम उठाती रहती है. जिससे मां और बच्चे सुरक्षित रहें. यह योजना गर्भवती महिला के लिए शुरू की गई है. हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा इस योजना को शुरू किया गया है. यह योजना 12 अप्रैल 2005 में शुरू कराई गई थी. राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा योजना का संचालन किया जाता है. 

Join

इस योजना के अंतर्गत गरीबी रेखा से अपना जीवन यापन करने वाले परिवार को गर्भवती महिलाओं को सही रूप से डिलीवरी कराने के लिए सरकार शहर की महिलाओं को 1000 रुपए और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं को 1400 रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान करती है. हर साल करीब से करीब 1600 करोड़ रुपए का बजट योजना हेतु तैयार किया जाता है. 19 साल या उससे अधिक उम्र की महिला योजना को आवेदन कर सकती हैं. इसके तहत प्रेग्नेंट महिला का प्रसव हॉस्पिटल में या किसी परिचित बाई के द्वारा किया जाना चाहिए. अगर आप भी इस योजना का आवेदन करना चाहते हैं तो आप हमारे इस आर्टिकल को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें, और इस योजना का लाभ उठाएं. 

जननी सुरक्षा योजना 2022 क्या है?

इस योजना के तहत परिस्थिति डॉक्टर व नर्स की निगरानी द्वारा गर्भवती महिलाओं का निशुल्क प्रसव आसानी से कराया जायेगा और बच्चे के जन्म के पश्चात दोनों के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए आर्थिक सहायता राशि भी प्रदान की जायगी। जो की लाभार्थी के सीधा बैंक खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी। इसके लिए आवेदक के पास स्वयं का बैंक खाता होना बहुत जरुरी है जो आधार कार्ड से लिंक होना बहुत जरुरी है। पंजीकृत लाभार्थी के पास MCH कार्ड के साथ-साथ जननी सुरक्षा कार्ड का होना भी बहुत जरुरी है। योजना का आवेदन आवेदक आसानी से अपने मोबाइल व कंप्यूटर द्वारा ऑनलाइन माध्यम के जरिये पोर्टल पर जाकर इसका आवेदन कर सकती है

जननी सुरक्षा योजना 2022 के लिए दस्तावेज

  • आवेदिका का आधार कार्ड
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • पते का सबूत
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जननी सुरक्षा कार्ड
  • सरकारी अस्पताल द्वारा जारी डिलीवरी सर्टिफिकेट
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

Janani Suraksha Yojana का उद्देश्य

योजना का उद्देश्य यह है की जो महिलाएं ग्रामीण व शहर क्षेत्रों में गरीबी रेखा में अपना जीवन यापन करती है उन्हें गर्भवस्था के दौरान मुफ्त में सभी सुविधाएं प्रदान की जा सके। क्यूंकि इन लोगो के घर की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण वह अस्पताल में अपना सही इलाज नहीं करा पाते और हर साल गर्भावस्था के समय सही देखभाल न मिलने पर दिक्कतों और बीमारीयां होने के कारण महिला की मृत्यु हो जाती है।

लेकिन अब इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं और नए जन्मे बच्चे को और अधिक सुरक्षा प्रदान करना और मृत्यु दर को काम करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। JSY में महिला के प्रसव होने के पश्चात सरकार उनके खाते में वित्तीय सहायता राशि उपलब्ध कराती है ताकि माँ और बच्चे को सही आहार और पोषण मिल पाएं. 

जननी सुरक्षा योजना की मुख्य विशेषताएं 

  • LPS वाले राज्यों को लक्षित करना 
  • प्रस्ताव जैसे मामलों को ट्रैक करना 
  • गर्भवती महिलाओं की स्थिति में सुधार लाने का प्रयास करना 
  • महिला और सरकार के बीच एक कड़ी को जोड़ कर रखा 
  • डिलीवरी की जांच और नवजात शिशु के जन्म होने के बाद मां बच्चे की देखभाल 
  • आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ता को प्राथमिक भूमिका प्रदान करना 

जननी सुरक्षा योजना से मिलने वाले लाभ

योजना से मिलने वाले लाभ जानने के लिए दिए गए पॉइंट्स को ध्यानपूर्वक पढ़े।

  • यह योजना 100% केंद्र प्रायोजित योजना है इसके तहत महिलाओं को प्रसव और प्रसव के बाद की देखभाल हेतु सहायता राशि देती है।
  • जननी सुरक्षा योजना देश के सभी राज्य और अन्य केंद्र शासित प्रदेशों में भी जारी की गयी है परन्तु LPS (लौ परफार्मिंग स्टेट्स) राज्यों जैसे: बिहार, उड़ीसा, राजस्थान, झारखण्ड, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश, यूपी, जम्मू कश्मीर, छत्तीसगढ़ में और अधिक विकास करेगी और महिलाओं के लिए प्रसव की मुफ्त सुविधाएं प्रदान करेगी
  • इन सभी राज्य को छोड़कर अन्य राज्य को सरकार ने हाई परफार्मिंग स्टेट्स (HPS) का नाम दिया गया है।
  • आंगनबाडी व आशा के चिकित्सकों की मदद से जो गर्भवती महिला अपने शिशु को घर पर ही जन्म देगी उसे JANNI SAHAYATA YOJNA के तहत 500 रुपये की सहायता राशि दी जाएगी।
  • योजना के तहत सभी पंजीकृत लाभार्थी के पास MCH कार्ड के साथ-साथ जननी सुरक्षा कार्ड का होना भी बहुत जरुरी है।
  • JSY के तहत आशा को सोशल हेल्थ केयर के रूप में पहचान की गयी है।
  • गर्भवती महिला के बच्चे के जन्म के पश्चात 5 साल बाद तक माँ और बच्चे का टीकाकरण हेतु लाभार्थियों को कार्ड दिया जायेगा जिससे उन्हें मुफ्त में टीका और अन्य सुविधाएं दी जाएगी।
  • जो महिलाएं लाभार्थी होंगी वह दो बार अपने प्रसव की जांच मुफ्त में करा सकेंगी।

जननी सुरक्षा योजना में आवेदन कैसे करें?

  • इस योजना को आवेदन करने के लिए आवेदक महिला को सबसे पहले स्वास्थ और पारिवार कल्याण मंत्रालय के आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है. 
  • उसके बाद वेबसाइट का होमपेज आपके सामने खुलकर आएगा. 
  • होम पेज पर आप एप्लीकेशन फॉर्म पीडीएफ को डाउनलोड करना है. 
  • डाउनलोड करने के पश्चात फॉर्म का प्रिंट आउट निकाले. 
  • इसके बाद फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे: आवेदक का नाम, पिता- पति का नाम, उम्र, लिंग, गर्भावस्था की तिथि, आदि को भर कर दें. 
  • अब आप फॉर्म में मांगे सभी दस्तावेजों की फोटोकॉपी को इसके साथ अटैच कर दें. 
  • सभी जानकारी को भरने के पश्चात आप एक बार फॉर्म को दोबारा पढ़ ले यदि फॉर्म में किसी भी प्रकार की गलती हुई हो तो उसे सुधार ले।
  • अब आप फॉर्म को अपने निजी स्वास्थ्य केंद्र व आंगनबाड़ी केंद्र में जमा करवा दें।
  • जिसके बाद आपके सभी दस्तावेजों का सत्यापन किया जायेगा और इसके बाद आपको योजना का लाभ दे दिया जायेगा।

निष्कर्ष

जैसा कि दोस्तों हमने आपको इस आर्टिकल से जुड़ा सभी जानकारी अपने इस लेख के जरिए आपको बताने की कोशिश की है, और यह भी बताया है कि इस आर्टिकल को कैसे आप आवेदन कर सकते हैं. अगर फिर भी इस आर्टिकल से जुड़ा कोई अन्य सवाल हो. जिसे हम इस लेख के जरिए पूरा ना कर सके तो आप हमें कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं आपके पूछे गए प्रश्नों का जवाब हम जरूर देंगे.

Leave a Comment