Up Board की परीक्षाओं को लेकर स्टूडेंट में नाराजगी, जानें कारण, 22 फरवरी से होंगे एग्जाम

यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 22 फरवरी से शुरू हो रही हैं। परीक्षाएं 12 कार्य दिवसों में होंगी, 22 फरवरी से 9 मार्च तक। 07 दिसंबर को बोर्ड ने पहले ही परीक्षाओं का शेड्यूल जारी किया था। छात्र-छात्राओं और शिक्षकों में नाराजगी की बढ़ रही है। यूपी बोर्ड को लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कदम उठाने का आरोप है। परीक्षार्थियों को रिवीजन के लिए गैप की कमी हो रही है। एक ही दिन में हाई स्कूल के विद्यार्थियों को दो विषयों की परीक्षाएं हैं। 5 मार्च को होम साइंस और कंप्यूटर की परीक्षाएं होंगी। छात्राओं का कहना है कि परीक्षा केंद्र दूर भेजे गए हैं। दोनों पालियों में परीक्षाएं होने से रिवीजन का मौका नहीं मिलेगा। मानसिक दबाव भी बढ़ा है, खासतर से छात्राओं के बीच। छात्रों और शिक्षकों की मांग है कि समय सार्थक बनाए जाए।

डेढ़ महीने तक चलती थी बोर्ड की परीक्षा

डॉक्टर सरोज यादव के अनुसार, पहले बोर्ड परीक्षाएं डेढ़ महीने तक चलती थीं। प्रत्येक पेपर के बीच, बच्चों को अच्छे से तैयारी करने का मौका मिलता था। विषेशकर, गणित, अंग्रेजी, और विज्ञान में कठिन प्रश्न पत्रों के बीच गैप रखा जाता था। इससे बच्चों को परीक्षा में बैठने के लिए पूर्व-स्वीकृत समय मिलता था। यूपी बोर्ड ने जल्दबाजी में तैयार किए गए शेड्यूल से कठिनाईयों का सामना होगा।

विद्यावती दरबारी बालिका इंटर कॉलेज की प्रमुख डॉक्टर सरोज यादव ने बताया। पहले, बच्चों को परीक्षा के लिए पूर्व-योजना में पर्याप्त समय दिया जाता था। खासकर, गणित, अंग्रेजी, और विज्ञान के कठिन प्रश्नों के बीच ब्रेक था। बच्चों को समझाया जाता था कि यह उनकी अच्छी तैयारी के लिए है। अब, यूपी बोर्ड का तैयार किया गया तेज़ शेड्यूल चिंता का कारण हो सकता है। डॉक्टर सरोज यादव ने कहा कि इससे बच्चों की तैयारी पर बुरा असर पड़ेगा। शेड्यूल की वजह से बच्चों को परीक्षा में सफलता प्राप्त करने में कठिनाईयाँ हो सकती हैं।

यह भी जरूर पढ़े:- Google Scholarship: रु80000–गूगल स्कॉलरशिप $1000 मिलेगा, फॉर्म भरे

रिजल्ट पर पड़ सकता है प्रभाव

  • डॉक्टर गार्गी श्रीवास्तव कहती है कि बच्चों को परीक्षा में तनाव मुक्त करना आवश्यक है।
  • उनकी मांग है कि बच्चों को आराम से परीक्षा देने का अधिकार हो।
  • उनके अनुसार, शेड्यूल बदलने से बच्चों के रिजल्ट पर सकारात्मक प्रभाव हो सकता है।
  • डॉक्टर ने यूपी बोर्ड से यह मांग की है कि परीक्षा का समय सुधारा जाए।
  • वह कहती है कि अब हर विषय के लिए यूपी बोर्ड में एक पेपर होना चाहिए।
  • इससे पहले के पैटर्न में मानसिक दबाव बच्चों पर पड़ता है।
  • डॉक्टर ने जिम्मेदार अधिकारियों से समय पर संशोधित शेड्यूल की मांग की है।
  • डॉक्टर का कहना है कि अब यह मुद्दा हल हो सकता है।
  • यूपी बोर्ड को बच्चों की सुरक्षा के लिए कार्रवाई करने का समय है।
  • डॉक्टर ने आश्वासन दिया है कि वह समस्या का समाधान करने में सहायक हो सकते हैं।

15 फरवरी से होगी सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा

शिक्षकों का कहना है कि बच्चों के हित में हर समय जल्दबाजी करना उचित नहीं है। सीबीएसई बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षाएं 15 फरवरी से 2 अप्रैल तक होंगी। बोर्ड ने परीक्षार्थियों को सभी विषयों में पढ़ाई और रिवीजन के लिए समय दिया है। शिक्षकों ने मांग की है कि प्रश्न पत्रों के बीच में पर्याप्त समय दिया जाए। विषयों की कठिनता और सरलता को ध्यान में रखकर मांग की गई है। प्रश्न पत्रों के बीच समय बढ़ाने से परीक्षार्थियों को आत्मविश्वास होगा। शिक्षकों ने परीक्षा के लिए सही तैयारी को बढ़ावा देने की भी अपील की है। प्रश्न पत्रों में विषयों के अनुसार समय वितरण का महत्वपूर्ण है। परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए ठीक से तैयारी करें। सीबीएसई बोर्ड ने परीक्षा के लिए स्थिरता और नियमितता की महत्वपूर्णता बताई है।

55 लाख स्टूडेंट देंगे एग्जाम

2024 की 10वीं और 12वीं की परीक्षा में 55 लाख 8 हजार 206 छात्रों ने पंजीकरण किया है. हाईस्कूल में 15 लाख 71 हजार 686 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन करवाया, जो 13 लाख 75 हजार 638 छात्राओं के साथ हैं. कुल 29 लाख 47 हजार 324 परीक्षार्थियों ने हाईस्कूल के लिए पंजीकरण किया है. इंटरमीडिएट में 14 लाख 12 हजार 806 छात्रों ने पंजीकरण किया है, जो 11 लाख 48 हजार 76 छात्राओं के साथ हैं. कुल 25 लाख 60 हजार 882 परीक्षार्थियों ने इंटरमीडिएट के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया है.

  • पिछले साल हाईस्कूल और इंटरमीडिएट में कुल 58 लाख 84 हजार 634 परीक्षार्थियों का पंजीकरण हुआ था.
  • यूपी बोर्ड की परीक्षा में इस बार कुल पंजीकृत छात्रों में वृद्धि हुई है.
  • इस वर्ष के परीक्षार्थियों की संख्या पिछले वर्ष से बढ़कर 58,871 है.

निष्कर्ष

जैसे कि हमने अपने इस पोस्ट के जरिए आपको यूपी बोर्ड 2024 की सारी जानकारी देने की कोशिश की है, अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया हो तो आप अपने दोस्तों से जरूर शेयर करें और हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब जरूर करें.

Leave a Comment