Chandrayaan 3 जाने चांद के कितना करीब पहुंचा चंद्रयान, ISRO से आयी खबर

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) ने रविवार को घोषित किया कि चंद्रयान-3 को चंद्रमा की कक्षा में स्थापित करने के एक दिन बाद, उसे चंद्रमा के और समीप ले जाने की योजना सफलतापूर्वक सम्पन्न की गई है।

ISRO ने बताया कि उसकी अगली कवायद इसी क्रम में 9 अगस्त को होगी। ISRO ने रविवार को एक ट्विटर पोस्ट के माध्यम से कहा, 'यान ने चंद्रमा के और निकट पहुंचने की एक योजना सफलतापूर्वक निभा दी है।

इंजनों की 'प्रत्यागात ज्वलन' ने इसे चंद्रमा की सतह के और अधिक निकटता में ले गई, अर्थात अब 170 किलोमीटर और 4,313 किलोमीटर के मध्य.

इसरो ने घोषणा की है कि उनकी योजना अनुसार चंद्रयान को चंद्रमा के और अधिक समीप ले जाने का प्रयास उन्हें 9 अगस्त, 2023 को भारतीय समय के हिसाब से दोपहर 1 बजे से 2 बजे के मध्य करना होगा।

अगले सत्रह दिनों में तीन और अभियान कार्यवाही पूरी करने की उनकी योजना है, उसके बाद लैंडिंग मॉड्यूल 'प्रपल्शन मॉड्यूल' से विभाजित हो जाएगा। इसके उपरांत, लैंडर को 'डी-आर्बिटिंग' प्रक्रिया से गुजरना होगा।

फिर, चंद्रमा की सतह पर अवतरण से पहले 'डी-ऑर्बिटिंग' का कार्य सम्पन्न किया जाएगा। इसरो के अनुसार, चंद्रयान 23 अगस्त को चंद्रमा की सतह पर 'सॉफ्ट लैंडिंग' करने का प्रयास करेगा।

इसरो ने चंद्रयान-3 का कक्ष पठ कम करने का काम रविवार, 6 अगस्त को रात करीब 11 बजे किया। इस प्रकार, वर्तमान में चंद्रयान चंद्रमा से 170 किलोमीटर और 4313 किलोमीटर की ऑर्बिट में घूम रहा है।